अयोध्या में मंदिर रख-रखाव के लिए सरकार इस साल खर्च करेगी 20.40 करोड़ रुपये

अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले के बाद मंदिर निर्माण की तैयारियों की रुपरेखा बननी शुरू हो गई है. गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने केन्द्र सरकार को तीन महीने के भीतर योजना बनाकर पेश करने का निर्देश दिया था. ताजा जानकारी के मुताबिक केन्द्र सरकार ने तय किया है कि अयोध्या में मंदिर रखरखाव के लिए 20.40 करोड़ रुपये खर्च होंगे. यह जानकारी सरकार की तरफ से लोकसभा में पेश की गई अनुदानों की पहली अनुपूरक मांग में दी गई है.

सरकार ने लोकसभा में रखी सप्लीमेंट्री डिमांड फॉर ग्रांट

साल 2019-20 के लिए केंद्र सरकार ने कुल 21246.16 करोड़ (जिसका नेट 18995.51) की सप्लीमेंट्री डिमांड फॉर ग्रांट मांगी है. यानी ये वो खर्च है जो इस साल के बजट के अलावा अतिरिक्त रूप से मांगा गया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने गुरुवार को सप्लीमेंट्री डिमांड फॉर ग्रांट (2019-20 के लिए पहला बैच) लोकसभा में पेश किया था.

जम्मू कश्मीर और लद्दाख पर खर्च होंगे 8,820 करोड़ रुपये

जानकारी के मुताबिक सरकार ने जो एक्सट्रा खर्च मांगा है उसका एक सबसे बड़ा हिस्सा 8,820 करोड़ रुपये जम्मू कश्मीर और लद्दाख के खर्चे के लिए मांगा गया है.

अंतरिक्ष विभाग के खर्च के लिए मांगे गए 666 करोड़ रुपये

सरकार ने 666 करोड़ रुपये अंतरिक्ष विभाग के खर्च के लिए और 3,387.46 करोड़ रुपये वेतन और पुलिस के राशन के खर्च के लिए मांगे गए हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *